राशिफल सन २०१३

जनवरी -सन 2013 ई .

मेष -राशि स्वामी मंगल उच्चस्थ होने के कारण उच्च प्रतिष्ठत लोगो के साथ संबंध बनेगे ! निर्वाह योग्य आय के साधन बनेगे ! सवारी आदि सुखो कीप्राप्ति होगी ! मासान्त में आय के साधन कम तथा खर्च अधिक होंगे ! पारिवारिक उलझने बढेगी !

वृष - राशि स्वामी शुक्र अष्टम भाव में स्थित है ! स्वास्थ्य कुछ नर्म रहे ! स्वभाव में तेज़ी रहेगी ! व्यर्थ की भागादौड़ी अधिक होगी ! विरोधी हानि  पहुचाने का प्रयास करेगे ! ता . 17 के पश्चात धर्म कर्म में रूचि होगी और अधिकतर समय शुभ कार्यो में ही व्यतीत होगा ! श्रीसूक्त का पाठ करना शुभ होगा !

मिथुन - सूर्य बुध की सयुक्त दृष्टियाँ पड़ रही है ! मास के पूर्वार्द्ध भाग में शुभ फल घटित होंगे ! धनागमन के साधनों में वृद्धि के साथ- साथ खर्च भी अधिक होंगे ! उतरार्ध भाग में मंगल - बुध का योग होने से बनते कामो में विघ्न एवं स्वास्थ्य कुछ ढीला रहेगा !

कर्क - मास के आरंभ से ही मंगल - शनि की संयुक्त दृष्टि रहने से बनते कामो में विघ्न , मानसिक तनाव,गुप्त चिंता ,दुर्घंटना में चोट आदि का भय और भूमि जायदाद संबंधी कार्यो में परेशानी होगी ! ता . 25 पश्चात हालात में सुधार होगा !

सिंह - 13 जून, तक राशि स्वामी सूर्य पर शनि की दृष्टी रहने से निकट - बंधुओ से तनाव एवं मतभेद रहेगे ! ता . 25 तक मंगल की दृष्टि होने से उत्साह एवं पुरषार्थ में वृदि होगी ! परन्तु स्वास्थ्य कुछ ढीला एवं अनावश्यक खर्च बढ़ेगे !

कन्या - ता . 15 तक बुध धनु राशिगत अस्तगत में तथा शनि साढ़े साती का प्रभाव भी रहने से संघर्षमयी परिस्थितिया रहेगी ! बनते कामो में विघ्न , स्वास्थ्य ढीला ,स्वाभाव में तेज़ी एवं वृथा भाग दौड़ अधिक होगी ! धन खर्च अधिक होगा !

तुला - शनि - राहु  का संचार एवं शनि साढ़े साती के प्रभाव से भाग्योन्नति में विघ्न , आय से खर्च अधिक ,वृथा मानसिक तनाव रहेगा ! ता . 4 जन . से धनु राशि में शुक्र - सूर्य -बुध का योग होने से नए - नए मित्रो से संबंध बनेगे ! परन्तु उतरार्ध भाग में पारिवारिक समस्याए व उलझने रहेगी ! किन्तु नए कार्य की योजनाये बनेगी !

वृश्चिक  -शनि साढ़े साती के प्रभाव से बनते कामो में विघ्न , घरेलू व आर्थिक परेशानिया बढ़ेगी ! मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा ! परन्तु राशिस्वामी मंगल उच्च राशिगत तृतीय भाव में संचार करने से संचार करने से व्यवसाय के क्षेत्र में धन लाभ के अवसर मिलेगे ! पराक्रम में वृद्धि तथा उच्च प्रतिष्ठत लोगो के साथ संपर्क बढ़ेगे !

धनु - शनि - राहू लाभ स्थान में तथा शनि की तृतीय दृष्टी होने से परिक्षम के बाद धन लाभ व उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे ! परन्तु परिवार में संतान सम्बन्धी चिंता ,मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा ! उत्तरार्ध भाग में हालात कुछ बद्लेगे ! खर्च अधिक एवं मनोरंजन आदि  कार्यो में ध्यान रहेगा !

मकर - मंगल उच्चस्थ होकर 24 जन . तक संचार करने से धन लाभ एवं अकस्मात उन्नति के अवसर मिलेगे ! राशि स्वामी शनि भी उच्च राशिस्थ होकर राहू यक्त दशम भाव में होने से व्यवसाय /नोकरी में भाग्योन्नति , आय -वृद्धि के अनेक अवसर प्राप्त होंगे ,परन्तु अचानक धन खर्च एवं मानसिक तनाव रहेगा !

कुम्भ - राशिस्वामी शनि भाग्य स्थान पर उच्च स्थिति में होने से धन लाभ एवं पदोन्नति के अवसर प्राप्त होगी ! निर्वाह योग्य आय के साधन बनेगे ! परन्तु मासांत में मंगल इस राशी पर होने से आय कम तथा खर्च अधिक होंगे !

मीन - शनि की ढैया का प्रभाव अभी रहेगा ! जिससे बनते कामो में विघ्न बाधाए , शरीर कष्ट ,मानसिक तनाव रहेगा ! राशि स्वामी गुरु तीसरे होने से कार्य व्यवसाय में भागदौड़ अधिक रहेगी ! आय में कमी तथा आकसिमक खर्च भी बढ़ेगे ! श्री सूक्त एवं लक्ष्मी स्रोत का पाठ करना कल्याणकारी होगा !

भविष्यफल -फरवरी -सन -2013 ई .

मेष - राशिस्वामी मंगल एकादुश भाव में अस्त होकर संचार करने से आय कम खर्च अधिक होगा ! अत्याधिक श्रम के पश्चात निर्वाह योग्य साधन बनेगे ! शनि की दृष्टि के कारण वृथा भागदोड ,मानसिक तनाव , निकट बन्धुओ का सामना रहे !

वृष - मासारंभ में चंद्रमा छठे भाव तुला राशिगत शनि - राहू का योग होने से दैनिक कार्यो में विघ्न , धन का खर्च अधिक एवं सुख - साधनों में वृद्धि होगी ! ता . 10 से राशि स्वामी शुक्र अस्त होने से स्वास्थ्य परेशानी , व्यवसाय में अत्यधिक खर्च और संघर्षपूर्ण हालात का सामना रहेगा !

मिथुन - ता . 2 फर . से राशिस्वामी बुध भाग्य - स्थान पर होने से भाग्य वृद्धि उच्च प्रतिष्टत लोगो से संपर्क बनेगे ! पराक्रम एवं उत्साह में वृद्धि तथा परिवार में शुभ कार्यो पर धन का खर्च होगा ! ता . 20 के पशचात किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से उन्नति के विशेष अवसर प्राप्त होंगे ! परन्तु वृथा मानसिक तनाव एवं गुप्त चिंताए रहे !

कर्क - ता . 12 तक सूर्य की सप्तम दृष्टी रहने से व्यर्थ का वाद -विवाद मानसिक तनाव , सरकारी क्षेत्र से परेशानी , शत्रु द्वारा  हानि की सम्भावना बनी रहेगी ! शनि की ढैया भी रहने से आय में कमी एवं पारिवारिक परेशानी रहेगी ! ता . 22 के पश्चात हालात में कुछ सुधार एवं पारिवारिक परेशानी रहेगी !

सिंह - ता . 12 तक राशि स्वामी सूर्य छटे भाव में एवं मंगल की सप्तम दृष्टी रहने से क्रोध अधिक ,बनते कामो में विघ्न एवं विलम्ब होगा ! परन्तु ता .12 से सूर्य - मंगल की दृष्टियाँ  होने से वृथा , भागदोड , धन , लाभ , मानसम्मान में वृद्धि होगी ! किन्तु क्रोध एवं जल्दबाजी में किये कार्यो में नुकसान हो सकता है ! सावधानी बरते !

कन्या - ता . 2 से बुध कुम्भ राशिगत संचार करने से पारिवारिक उलझने एवं व्यवसायिक क्षेत्रो में अत्यधिक भागदोड के उपरांत भी लाभ में कमी रहेगी ! शनि साढ़े साती एवं गुरु की दृष्टी रहने से विपरीत परिस्थितियों में भी निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! स्वास्थ्य कुछ ढीला एवं वृथा मानसिक तनाव रहे ! धन का खर्च अधिक रहेगा !

तुला - शनि -राहू का संचार एवं राशी स्वामी शुक्र ता .21 तक चतुर्थ भाव में होने से अनेक उतार -चढाव एवं परिवर्तनों का सामना व्यवसाय के क्षेत्र में रहेगा ! स्थान परिवर्तन भी होने योग है ! ता . 22 से हालात में परिवर्तन एवं परिवार में शुभ मंगल कार्यो पर खर्च होगा ! विदेशी संबंधो से लाभ के योग है !

वृश्चिक - राशिस्वामी मंगल चतुर्थ भावस्थ होने से निर्वाह योग्य आय के साधन बनेगे ! धर्म - कर्म में रुझान रहेगा ! परन्तु शनि साढ़े सति के कारण मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा ! ता . 20 के पचात स्वास्थ्य परेशानी , मानसिक तनाव , धन का खर्च अधिक होगा ! परिवार में कुछ निजी स्मसियाए भी उभरेगी !

धनु - मासारंभ में कर्येक्षेत्र में विशेष उतार - चढाव एवं संघर्ष का सामना रहेगा ! कुछ सोची योजनाओ में विघ्न बाधाए उत्पन्न होंगी ! मासांत में शुभ कार्य पर धन का खर्च होगा ! वाहनदि का क्रय - विक्रय भी होगा ! परन्तु स्वास्थ्य कुछ ढीला रहेगा !

मकर - मासारंभ से इस राशि पर शुक्र का संचार होने से निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! व्यवसाय में संघर्षपूर्ण हालात रहेगे ! परन्तु गुरु की दृष्टी होने से शुभ कार्यो पर धन का खर्चा होगा ! ता . 22 से हालात में परिवर्तन एवं परिवार में ख़ुशी के अवसर भी मिलेगे !

कुम्भ - इस राशि पर मंगल का संचार होने से व्यवसाय एवं गृह सम्बन्धी उलझने बढ़ेगी ! आय कम व खर्च अधिक होंगे ! दुर्घटना में चोटदि लगने का भय भी रहेगा ! ता . 12 से मंगल -सूर्य -बुध का संचार होने से बनते कामो में विघ्न -बाधाए , स्वास्थ्य में खराबी एवं तनाव की स्थिति रहे ! वृथा भागदोड भी रहेगी !

मीन - राशिस्वामी गुरु तीसरे एवं शनि की ढेय्या के प्रभाव से मिश्रित फल मिलेगे ! व्यवसाय में परिक्षम एवं संघर्ष के बावजूद धन लाभ की स्थिति बनेगी ! धर्म -कर्म में रुझान एवं शुभ कार्यो पर खर्च होगा ! परन्तु वृथा भागदोड ,मानसिक तनाव, गुप्तचिंता , किसी भाई -बन्धु से तनाव एवं मतभेद भी रहेगे !

भविष्यफल -मार्च -सन 2013 ई .

मेष - मासारंभ में घनामगन के साधनों में विघ्न , मानसिक एवं क्रोध अधिक रहे ! ता .5 से राशिस्वामी मंगल दादश भाव में होने से धन का खर्च अधिक ,दूरस्थ यात्राए ,विदेशी संबंधियों से लाभ परन्तु परिवार में विभिन्न परेशानियों का सामना रहेगा ! व्यवसाय में कठिन हालात का सामना रहे !

वृष - गुरु का संचार होने से आय के साधनों में वृद्धि धर्म - करम में रुझान एवं धन का खर्च भी होगा ! परन्तु ता .17 से राशिस्वामी शुक्र मीन राशि में संचार करने से अस्क्मात धन लाभ के अवसर बनेगे ! सुख साधनों पर धन का खर्चा अधिक किन्तु संतान सम्बन्धी चिंता रहेगी !

मिथुन - राशिस्वामी बुध भाग्यस्थान पर संचार करने से भाग्यवृद्धि तथा उच्चप्रतिष्ठित लोगो के साथ संपर्क बनेगे ! कर्येक्षेत्र में व्यस्थताये बनी रहेगी ! ता .15 से नवीन मित्रो के साथ मेलझोल बढेगा ! धर्म - कर्म में रूचि रहेगी ! परन्तु वृथा मानसिक तनाव ,स्वास्थ्य कुछ ढीला एवं गुप्त चिंता बनी रहेगी !

कर्क - शनि की ढेय्या के कारण बनते कामो में विघ्न , वृथा भागदोड़ मानसिक तनाव एवं व्यवसाय में भी संघर्षपूर्ण हालात का सामना रहेगा ! उत्तरार्ध भाग में निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! सुख - साधनों पर धन का खर्च अधिक एवं मनोरंजन आदि में रुझान बढेगा !

सिंह - ता . 14 तक राशिस्वामी सूर्य की स्वगृही दृष्टी होने से धन लाभ ,दोड - धूप अधिक परन्तु क्रोध व उत्तेजना से बचे ! ता . 14 से राशिस्वामी सूर्य अष्टमस्थ होने से स्वास्थ्य में खराबी एवं पिता से कुछ मतभेद रहेगे ! यद्यपि  व्यवसाय में उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! परन्तु घरेलू उलझनों के कारण मन परेशान रहेगा  !

कन्या - मासारंभ में आय के साधनों में वृद्धि होगी ! स्त्री व संतान की ओर से शुभ समाचार मिलने के योग है ! परन्तु शनि साढ़ेसति एवं गुरु की दृष्टी होने से पारिवारिक एवं वी व्यवसायिक उलझनों के कारण मन अशांत रहेगा ! स्वास्थ्य में खराबी तथा चोट आदि का भय रहेगा ! श्री राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करना शुभ रहेगा !

तुला - मासारंभ में स्वभाव में तेज़ी एवं बनते कामो में विघ्नों का सामना रहेगा ! ता . 4 से मंगल की अष्टम दृष्टी रहने से परीक्षम एवं उत्साह से कार्य करने पर लाभ के संयोग बनेगे ! वाहन आदि सावधानीपूर्वक चलाना ठीक रहेगा ! चोट अदि का भय भी रहे ! ता . 20 से वृथा भागदोड एवं मानसिक तनाव रहे !

वृश्चिक  - किसी नये कार्य की योजना बनेगी ! विदेश सम्बन्धी कार्यो में प्रगति होगी ! परन्तु शनि साढ़े सति के कारण बनते कामो में अडचने एवं विलम्ब होगा ! ता . 24 से व्यवसाय में उन्नति एवं किसी विशिष्ट व्यक्ति के सहयोग से कोई बिगड़ा कार्य बनेगा ! परन्तु धन सम्बन्धी कुछ न कुछ समस्या बनी रहेगी !

धनु - पूर्वार्द भाग में कुछ सोची हुई योजनाओ में आंशिक सफलता मिलेगी ! व्यवसाय की स्थिति माध्यम रहे ! परन्तु राशिस्वामी गुरु छटे भाव में होने से बनते कामो में विघ्न एवं स्वास्थ्य परेशानी रहे ! उत्तरार्ध भाग में अचानक यात्रा के सयोग बनेगे ! परन्तु शत्रु भय और धन का खर्च अधिक होगा !

मकर - गुरु की नीच दृष्टी पड रही है ! जिससे आय की अपेक्षा खर्च अधिक रहेगे ! भाई - बन्धु का सहयोग कम प्राप्त होगा ! उत्तरार्ध भाग में मिश्रित प्रभाव होगा ! नोकरी में उन्नति एवं आर्थिक हालात बेहतर होंगे ! कोई रुका हुआ कार्य बनेगा ! यात्रा के योग भी है !

कुम्भ - ता . 14 तक मंगल के साथ सूर्य का संचार होने से स्वास्थ्य परेशानी , मानसिक तनाव , आँखों में कष्ट एवं बनते कामो में विघ्नों का सामना रहेगा ! उतार्थ भाग में गत हालात में सुधार परन्तु शनि - राहू के कारण व्यवसाय में उलझने रहेगी !

मीन - शनि की ढेय्या होने से आय कम और खर्च अधिक होगा ! व्यर्थ की भाग दोड और फिजूलखर्ची बढ़ेगी ! धन हानि एवं स्वास्थ्य नर्म होगा ! बनते कार्यो में विघन उत्पन्न होंगे ! ता . 14 से सूर्य - मंगल का संचार होने से अकारण क्रोध , उत्तेजना , शत्रु भय रहेगा ! परन्तु निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे !

भविष्यफल - अप्रैल - सन 2013 ई .

मेष - मासारंभ में अत्यधिक संघर्ष के बावजूद निर्वाह्योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! ता . 12 से मेष राशि में एवं सूर्य भी ता . 13 से उच्चराशिस्थ होने से धन लाभ एवं पदोन्नति के योग बनेगे ! प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी ! परन्तु मानसिक तनाव एवं घरेलू झगडे रहेगे !

वृष - मास में पूर्वार्ध भाग में कार्य क्षेत्र में व्यस्तताए बढ़ेगी ! गत दिनों में किये गये प्रयासों में सफलता मिलेगी ! भाई - बन्धु से सहयोग मिलेगा ! विशेष परिश्रम से किसी रुके हुए कार्य में सफलता के योग है ! वैशाख संक्रांति से वैशाख महातम्य का पाठ करना तथा उस दिन अनाज , फल ,वस्तु अदि का यथाशक्ति दान करना शुभ होगा !

मिथुन - ता .8 तक बुध भाग्यस्थान पर भाग्य की उन्नति तथा उच्च प्रतिष्ठ लोगो से संपर्क बनेगे ! ता . 9 से 28 अप्रैल के मध्य बुध नीच राशिस्थ होने के कारण मानसिक अस्थिरता एवं तनाव रहेगा ! परिवार में घरेलू उलझने उत्त्पन्न होंगी ! परन्तु कार्य व्यवसाय में गुजारे योग्य धन प्राप्त होगा ! ता .28 के पश्चात धनागमन के साधनों में वृद्धि के साथ - साथ खर्च भी बढ़ेगे !

कर्क - इस मास में कार्य स्थिति में सुधार होगा ! निर्वाह योग्य आय के साधन बनेगे ! किसी मित्र की सहायता से कोई बिगड़ा कार्य बनेगा ! गृह में मंगल कार्य होगा ! आशाओ में किंचित सफलता प्राप्त होगी ! खर्च अधिक रहेगे ! परन्तु ता .12 से मंगल की नीच चतुर्थ दृष्टी रहने से क्रोध ,उत्तेजना अधिक ,स्वाभाव में तेज़ी एवं चिडचिडापन रहेगा !

सिंह - इस मास मिश्रित फल प्राप्त होंगे ! धन लाभ के साथ -साथ खर्च भी अधिक होगा ! परिवार में व्यर्थ का तनाव व उलझने रहेगी ! व्यापार अथवा नौकरी में उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! परन्तु उन अवसरों का उचित लाभ नही उठा सकेगे ! वैशाख संक्रांति से वैशाख महात्म्य का स्नानं , पाठ आदि शुरु करे ! 

कन्या - आय कम और खर्च अधिक होंगे ! चिंता रहेगी ! अत्यधिक कठनाई से निर्वाह योग्य धन के साधन प्राप्त होंगे ! परन्तु पुरुषार्थ द्वारा उन्नति व लाभ के अवसर प्राप्त होंगे ! अपने परिश्रम और उद्यम से लाभ प्राप्त करे! संक्रांति से वैशाख महात्म्य का पाठ तथा सूर्य उपासना व दान आदि करना शुभ होगा !

तुला - ता .12 तक मंगल की अष्टमी होने से उत्साह एवं परिश्रम से कार्य करने पर धन लाभ एवं उन्नति के योग है ! परन्तु ता .13 से इस राशि पर सूर्य की नीच दृष्टी होने से बनते कामो में विघ्न ,व्यवसाय में आय कम एवं खर्च अधिक रहेगे ! स्वास्थ्य में विकार तथा घरेलू उलझने बढ़ेगी !

वृश्चिक - मासारंभ में उच्च प्रतिष्ठत लोगो से मेल -जोल एवं निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! परन्तु ता .12 से मंगल की इस राशि पर स्वगृही दृष्टी होने से यद्यपि धन लाभ ,भूमि - जायजाद सम्बन्धी कार्यो से लाभ होगा , किन्तु तनाव व उत्तेजना बढ़ेगी ! वृथा भाग दौड़ भी होगी !

धनु -राशी स्वामी गुरु छटे संचार करने से कुछ सोची योजनाओ को क्रियान्वित रूप देने में विलम्ब होगा ! ता . 15 से व्यवसाय में आंशिक सफलता एवं विलास आदि कार्यो पर धन खर्च होगा ! क्रोध एवं उत्तेजना कोई बना हुआ कार्य बिगड़ने के योग है ! ता .26,27 को आर्थिक उलझने पैदा होगी ! परन्तु पारिवारिक सहयोग प्राप्त होगा !

मकर - इस राशि पर गुरु की नीच दृष्टी से व्यवसाय व कारोबार में अनिश्चितता बनी रहेगी ! आय से खर्च अधिक अधिक होंगा 1 ता .26 के पशचात प्रतिष्ठित लोगो से संपर्क लाभकारी होंगे !

कुम्भ - शनि वक्री अवस्था में रहने से घरेलू हालात में अनिशिचता बनी रहेगी ! आय कम व्यय अधिक होगा ! अत्यंत कठिन समस्याओं का सामना करना पड़ेगा ! बनते कार्यो में विघ्न होंगे ! आलस्य में वृद्धि होगी ! दूरस्थ यात्राए एवं गुप्त चिंता बनी रहेगी !

मीन - मासारंभ में उच्च प्रतिष्ठत लोगो से संपर्क एवं लाभ के अवसर मिलेगे ! ता . 13 से सूर्य -( शनि -राहू ) के समसप्तक योग होने से पारिवारिक सदस्यों में मतभेद एवं तकरार के हालात बनेगे ! वृथा भागदोड एवं व्यवसायिक क्षेत्रो में भी लाभ में कमी रहेगी !

भविष्यफल -मई -सन 2013 ई .

मेष - मासारंभ में इस राशि पर सूर्य -मंगल -बुध -शुक्र -केतु आदि ग्रहों के योग होने से व्यवसायिक क्षेत्रो में हालात अस्थिर एवं अनिशचित रहेगे ! स्वास्थ्य में खराबी ,स्वभाव में उग्रता एवं निकट - बन्धुओ से मतभेद रहेगे ! खर्च अधिक एवं किसी व्यक्ति विशेष से धोखे की सम्भावना बनी रहेगी ! ता .22 के पश्चात हालात में सुधार होगा !

वृष - पूर्वार्द्ध भाग में लाभ कम तथा खर्च अधिक होगा ! ता . 4 से शुक्र वृष में गुरु के साथ 28 मई तक योग करेगा ! जिससे धन लाभ तथा कुछ बिगड़े कार्यो में सुधार होगा ! शुभ यात्रा एवं शुभ मंगल कार्यो पर धन खर्च होगा ! ता .29 से मानसिक तनाव , बनते कामो में विघ्न एवं शरीर कष्ट होने के योग है !

मिथुन - राशिस्वामी बुध ता .12 तक मेष राशी में केतू युक्त संचार करने से धन लाभ व अकस्मात उन्नति के अवसर  बढ़ेगे ! परन्तु बनते कामो में विघ्न , संतान ,सम्बन्धी चिंता एवं स्वास्थ्य कुछ ढीला रहेगा ! उत्तरार्ध भाग में बुध दशम भाव में होने से अचानक यात्रा , खर्च में वृद्धि एवं स्थानपरिवर्तन भी होने के योग है !

कर्क - ता .23 तक इस राशि पर मंगल की अशुभ दृष्टी पड़ने से व्यवसाय में विघ्न बाधाए तथा सुख साधनों में कमी होगी ! शत्रु हानि पहुचाने के प्रयास करेगे ! खर्च भी अधिक होंगे ! परन्तु ता . 24 से हालात में विशेष परिवर्तन होंगे  एवं शुभ कार्यो पर धन का खर्च होगा ! धर्म - कर्म में रुझान रहेगा ! 

सिंह - ता, 14 तक राशिस्वामी सूर्य उच्च राशिगत संचार करने से देश - विदेश के लोगो के साथ संपर्क बनेगे ! विदेश जाने की योजना भी बनेगी ! ता . 23 से भाग्येश मंगल की विशेष दृष्टी होने से निर्वाह योग्य आय के साधन बनेगे ! पारिवारिक ख़ुशी के अवसर प्राप्त होंगे ! परन्तु खर्च ज्यादा होंगे !

कन्या - मासारंभ में बुध- केतु युक्त अष्टम भाव में होने से बनते कामो में विघ्न एवं धन हानि की सम्भावना बनी रहेगी ! ता . 13 मई से 27 मई के मध्य बुध - गुरु भाग्यस्थान पर होने से बिगड़े कामो में सुधार एवं आय के साधनों में वृद्धि होगी ! ता . 27 के पशचात व्यवसायिक क्षेत्रो में हालात कुछ अस्थिर रहेगे !

तुला - शनि -राहू का संचार एवं 13 से 27 मई तक शुक्र की स्वग्रही दृष्टी होने से मिश्रित प्रभाव होगा ! आय में वृद्धि के साथ खर्च अधिक होंगे ! ता . 4 से 28 के मध्य शुक्र अष्टम भाव में होने से कभी- कभी धन लाभ , शुभ यात्रा , प्रिय बन्धुओ से मिलाप एवं सुख - साधनों में वृद्धि होगी ! परन्तु वृथा मानसिक तनाव एवं स्वास्थ्य ढीला रहे !

वृश्चिक - मंगल की स्वगृही होने से भूमि - जायदाद सम्बन्धी कार्यो से लाभ ,उच्चाधिकारी से मेल - जोल एवं संपर्क बढ़ेगे ! परन्तु निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! ता . 24 से बनते कामो में विघ्न , क्रोध अधिक एवं मानसिक तनाव बना रहेगा ! चोट आदि का भय रहेगा !

धनु - राशि स्वामी गुरु छटे भाव में होने से स्वास्थ्य कुछ ढीला , पेट विकार,  लीवर में खराबी के योग है ! व्यवसाय में भी उतार चढाव एवं परिवर्तनों का सामना रहेगा ! ता . 23 से मंगल की दृष्टी रहने से उत्साह में वृद्धि परन्तु क्रोध अधिक , धन का खर्च अधिक एवं वृथा भाग दौड़ बनी रहेगी ! चोट आदि का भय रहेगा !
 
मकर - गुरु की नीच दृष्टी होने से व्यवसायिक क्षेत्रो में परिस्थितिया संघर्षपूर्ण रहेगी ! साझेदारी के कार्यो में हानि होने और गुप्त चिंता रहने के योग है ! ता . 20 के पश्चात आय व सुख साधनों में वृद्धि तथा विदेश कार्यो की प्रगति होगी ! धर्म - कर्म के कार्यो पर धन का खर्च अधिक होगा !

कुम्भ - राशि स्वामी शनि वक्री अवस्था में रहने से जल्दबाजी में लिए गये निर्णय हानिकारक हो सकते है ! किसी विशेष से धोखे की सम्भावना बनी रहेगी ! परन्तु उत्तरार्थ भाग में कुछ बिगड़े कामो में कामयाबी , धर्मकर्म में रुझान रहेगा ! किसी महत्वपूर्ण कार्य के कामयाबी के लिए संघर्ष करना पड़ेगा !

मीन - मासारंभ में परिवार में विभिन्न समस्याओ का सामना रहेगा ! वृथा भाग दौड़ एवं धन लाभ में कमी रहेगी ! उत्तरार्थ भाग में कुछ बिगड़े कामो में सुधार , परिवार में शुभ मंगल कार्य भी सम्पन्न होंगे ! नए लोगो के साथ संपर्क और विदेश सम्बन्धी कार्यो में रुझान बढेगा !

भविष्यफल - जून - सन 2013 ई .

मेष
- इस मास मिश्रित फल प्राप्त होंगे ! पराक्रम व अपने उधम द्वारा आय के साधनों में वृद्धि होगी ! उच्च प्रतिष्ठित व्यक्तियों के संपर्क बनेगे ! सुख - साधनों में वृद्धि होगी ! परन्तु केतु का संचार इस राशी पर होने से मानसिक तनाव एवं अवांछित व्यक्तियों के कारण बनते कामो में परेशानी होगी !

वृष - विघ्न , बाधाओ के वाबजूद धन लाभ व कार्यो में सफलता प्राप्ति होगी !कारोबार में व्यस्तताए बढ़ेगी ! व्यवसाय में कुछ परिवर्तन का विचार बने ! प्रिय - बन्धु से मुलाकात होगी ! परन्तु उत्तरार्थ में पारिवारिक परेशानी , शरीर कष्ट , वृथा भागदोड , मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा !

मिथुन - शुक्र बुध - गुरु का योग ता .22 तक बना रहने से मनोरंजन एवं विलास आदि कार्यो पर धन का खर्चा होगा ! परिवार में ख़ुशी के अवसर मिलेगे ! परन्तु बनते कामो में विघ्न - बाधाए , स्वास्थ्य कुछ ढीला एवं गुप्त चिंता रहेगी ! ता . 26 से बुध वक्री होने के कारण क्रयविक्रय के कार्यो में परेशानी के योग है !

कर्क - इस मास में अकसिमक धन लाभ होगा ! कार्य व्यवसाय में स्थिति कुछ अनुकूल होगी ! भाई - बन्धुओ का सहयोग प्राप्त होगा ! भूमि व वाहन आदि का लाभ होगा ! शनि की ढेय्या के कारण संतान सम्बन्धी चिंता रहेगी !ता .22 से शुक्र कर्क राशि संचार करने से शुभ यात्रा , शुभ कार्यो पर अनावश्यक खर्च भी होंगे !

सिंह - मासारंभ से गुरु की तृतीयस्थ शनि -राहू पर दृष्टी होने से नए - पुराने मित्रो से नये संबंध बनेगे ! कुछ बिगड़े कामो में सुधार एवं अकस्मात धन लाभ के योग है ! परन्तु मासांत में घरेलू उलझने एवं परिवार में विभिन्न परेशानी का सामना रहेगा ! धन का खर्च अधिक एवं मानसिक तनाव रहेगा !

कन्या - गत किये गये पर्यसो में सफलता और श्रेष्ट व्यक्ति से संपर्क लाभकारी होगा ! भूमि सुख एवं वाहन प्राप्ति भी संभव होगी ! , परन्तु नोकरी में अफसरों से तनाव हो सकता है ! शनि की साढ़े सति एवं बुध दशमस्थ होने से कुछ बिगड़े कामो में विघ्न , वृथा भागदोड एवं तनाव रहेगा ! किन्तु निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे !

तुला - गुरु की पंचम दृष्टी रहने से गत परिस्थितियों में धीरे - धीरे कुछ सुधार होगा ! परन्तु शनि - राहू का संचार होने से मिश्रित प्रभाव होगा ! उच्च प्रतिष्ठित लोगो  से संपर्क एवं आय के साधन बनते रहेगे ! ता . 27 से क्रोध व उत्तेजना से बचाव रखे ! चोट आदि का भय रहेगा ! सावधानी बरते !


वृश्चिक - राशिस्वामी मंगल का गृह्स्वाही दृष्टी होने से निर्वाह योग्य धन लाभ के अवसर प्राप्त होते रहेगे ! उच्च प्रतिष्ठित लोगो के साथ संपर्क बनेगे ! परन्तु अकस्मात खर्च की अधिकता , धन हानि एवं चोट आदि का भय रहेगा ! ता . 25- 26 को लेने - देने करते समय सावधानी बरते ! धोखे की सम्भावना बनी रहेगी !

धन - गुरु की स्वगृही दृष्टी होने से आय के साधनों में  वृद्धि होगी ! खर्च भी बढ़ -चढ़ कर होंगे ! धर्म- कर्म में रूचि तथा मानप्रतिष्टा में वृद्धि होगी ! परन्तु ता . 22 से क्रोध अधिक , परिवार में मनमुटाव , स्वास्थ्य कुछ ढीला एवं पिता से कुछ मतभेद भी रहेगे ! अपनी इच्छा कार्य की प्रवति बनेगी !

मकर - मास के पूर्वाद्ध भाग में धन की प्राप्ति होगी ! वृथा खर्च भी बढ़ेगे ! आमोद - प्रमोद आदि साधनों में विस्तार एवं वृद्धि होगी ! धर्म -कर्म में भी रुझान रहेगा ! उत्तरार्द्ध में पारिवारिक उलझनों के कारण मन संतप्त रहे ! आकसिमक खर्चो में वृद्धि के कारण तनाव रहे ! शनिवार का व्रत करना शुभ होगा !

कुम्भ - आशाओ में किंचित सफलता प्राप्त होगी ! शनि - राहू की स्थिति भाग्यस्थान होने से अकस्मात में धन लाभ व उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! नवीन कार्यो को कार्य रूप देने के पर्यास लाभकारी रहेगा ! मासांत में परिक्षम करने से कोई बिगड़ा कार्य बनेगा ! परन्तु धन का खर्च अधिक रहेगा ! श्री सूक्त का पाठ करना शुभ होगा !

मीन - मासारंभ में धन का खर्च अधिक , उलझनों के बावजूद निर्वाह योग्य आय एवं विदेशी कार्यो में कुछ प्रगति होगी! परन्तु शनि की ढेय्या के कारण मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा ! जायदाद सम्बन्धी कुछ समस्या उत्पन्न हो सकती है !

भविष्यफल -जुलाई -सन 2013 ई .

मेष - इस मास मिश्रित प्रभाव होगा ! नवीन कार्य को करने की योजना बनेगी ! व्यवसाय की स्थिति मध्यम रहेगी ! व्यस्तताए बढ़ेगी . किसी विदेशी सम्बन्धी से मुलाकात होगी ! परन्तु वृथा - भागदोड , धन लाभ में विघ्न स्वास्थ्य में खराबी एवं परिवार सम्बन्धी चिंता बनी रहेगी ! श्री दुर्गासप्तशती का पाठ करना शुभ होगा !

वृष - मासारंभ में धन लाभ एवं विलास आदि कार्यो पर धन का खर्च अधिक होगा ! गृह में शुभ मंगल कार्य भी होने के योग है ! परन्तु ता .17 से शुक्र सिंह राशिगत संचार करने से स्वास्थ्य में खराबी , घरेलू उलझने वृथा वाद - विवाद में परेशानी रहेगी ! समय के अनुकूल नही है ! सावधनी पूर्वक क्रय विक्रय करे !

मिथुन - ता .4 मंगल भी इस राशी में आकर बुध -गुरु -सूर्य के साथ मेल करेगा ! जिससे मिश्रित प्रभाव होगा ! उलझनों के वाबजूद पराक्रम में वृद्धि एवं आय के साधनों में बढ़ोतरी होगी ! परन्तु व्यवसायिक व्यस्तताओ के कारण पर्याप्त लाभ नही होगा ! यद्यपि  परिवारिक सहयोग मिलेगा ! परन्तु स्वाभाव में तेज़ी एवं मानसिक तनाव रहेगा !

कर्क - शनि की ढैया के कारण शरीर कष्ट , मानसिक तनाव व स्वास्थ्य हानी के योग है ! लाभ कम खर्च अधिक होगा ! विभिन्न उलझनों का सामना रहेगा ! ता . 16 से सूर्य संचार इस राशि पर होने से निकट बन्धुओ से मनमुटाब एवं विरोध बढ़ेगे ! भगवान सूर्य का पूजन करना शुभ होगा ! 

सिंह - इस मास में धर्म कर्म में रूचि बढ़ेगी ! राज दरबार में जाने से मान - सम्मान बढेगा ! व्यवसाय /नौकरी  में उन्नति के साधन बढ़ेगे ! घर में सुख - शांति में मित्रो द्वारा विघ्न पड़ेगा ! थोड़ी सी उत्तेजना से काम बिगड़ सकता है ! मासांत में किसी बिगड़े काम में प्रतिष्ठित  व्यक्ति के सहयोग से सुधार होगा ! 

कन्या - राशिस्वामी बुध राशिगत होने से देनिक कार्यो में प्रगति होगी ! कुछ बिगड़े कामो में सुधार होगा ! धन लाभ व उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी ! किसी शुभ कार्य पर खर्च होगा ! परन्तु शनि की साढ़े साती के कारण तनाव रहेगा ! भलाई करने पर भी बुराई मिलेगी ! आर्थिक परेशानियों के कारण चिंताए होगी ! 

तुला - शनि  साढ़े साती एवं शनि - राहू का संचार इस पर होने से अत्यधिक परिश्रम  के बाद धनु लाभ और सुख साधनों में वृद्धि होगी ! व्यर्थ की भाग -दौड़ और धार्मिक कार्यो पर खर्च होगा ! वाद - विवाद से बचे ! परन्तु ता .24 के पश्चात  विदेश सम्बन्धी कार्यो में अनेक उतार - चढ़ाव का सामना रहे !

वृश्चिक - ता .4 जुला . से राशिस्वामी मंगल अष्टमस्थ संचार करने से स्वास्थ्य सम्बन्धी विशेष सावधानी बरते ! बनते कामो में विघ्न - बाधाए एवं अडचने रहेगी और उत्तेजना भी बढ़ेगी ! शनि की साढ़े साती के कारण व्यवसायिक क्षेत्रो में संघर्षमयी परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा  ! आय से खर्च एवं वृथा मानसिक तनाव रहेगा ! 

धनु - इस राशि पर मंगल की दृष्टि पड़ रही है ! निर्वाह योग्य धन लाभ के अवसर प्राप्त होते रहेगे ! परन्तु मनोरंजन एवं विलास आदि कार्यो पर खर्च अधिक रहेगे ! सांसरिक कार्यो में प्रगति होगी ! गृह में ख़ुशी का वातावरण बनेगा ! उच्च प्रतिष्ठित  लोगो के साथ संपर्क बनेगे ! परन्तु ता .26 से वृथा मानसिक तनाव एवं पारिवारिक परेशानी रहे ! 

मकर - पूर्वार्द्ध भाग में धन एवं विद्या में उन्नति होगी ! विलास अदि कार्यो पर धन का व्यय होगा ! स्त्री एवं संतान की ओर से प्रसन्नता प्राप्त हो ! ता .20 के पश्चात व्यवसाय में बहुत कठिनाई से निर्वाह योग्य धन की प्राप्ति होगी ! वृथा यात्राए एवं धन का खर्च अधिक होगा !

कुभ - इस मास में आर्थिक हालात आगे से बेहतर होंगे ! कार्य क्षेत्र में व्यस्तताए बनी रहेगी ! समाज से मान - इज्जत बढ़ेगी ! विदेश से सम्बंधित कार्यो में कुछ सफलता प्राप्त होने की संभावनाए है ! मासांत में शुभ समाचार और अप्रत्याशित लाभ भी होंगे ! 

मीन - शनि की ढेय्या होने से व्यवसाय में अनिशिचता बनी रहेगी ! आय कम और व्यय अधिक रहेगा ! ता . 10 के पशचात परिश्रम करने पर भी धन प्राप्ति आशा अनुरूप नही होगी ! परिवार में तनाव व वैचारिक मतभेद होंगे ! उत्तरार्ध भाग में भूमि - सम्बन्धी क्रय - विक्रय की योजनाए बनेगी , परन्तु इस कार्य में कुछ समस्या भी उत्पन्न  हो सकती है ! 
 
भविष्यफल -जुलाई -सन 2013 ई .

मेष - इस मास मिश्रित प्रभाव होगा ! नवीन कार्य को करने की योजना बनेगी ! व्यवसाय की स्थिति मध्यम रहेगी ! व्यस्तताए बढ़ेगी 1 किसी विदेशी सम्बन्धी से मुलाकात होगी ! परन्तु वृथा - भागदौड़ , धन लाभ में विध्न स्वास्थ्य में खराबी एवं परिवार सम्बन्धी चिंता बनी रहेगी ! श्री दुर्गासप्तशती का पाठ करना शुभ होगा !

वृष - मासारंभ में धन लाभ एवं विलास आदि कार्यो पर धन का खर्च अधिक होगा ! गृह में शुभ मंगल कार्य भी होने के योग है ! परन्तु ता .17 से शुक्र सिंह राशिगत संचार करने से स्वास्थ्य में खराबी , घरेलू उलझने वृथा वाद - विवाद में परेशानी रहेगी ! समय के अनुकूल नही है ! सावधनी पूर्वक क्रयविक्रय करे !

मिथुन - ता .4 मंगल भी इस राशी में आकर बुध -गुरु -सूर्य के साथ मेल करेगा ! जिससे मिश्रित प्रभाव होगा ! उलझनों के वाबजूद पराक्रम में वृद्धि एवं आय के साधनों में बढ़ोत्तरी होगी ! परन्तु व्यवसायिक व्यस्तताओ के कारण पर्याप्त लाभ नही होगा ! यधपि परिवारिक सहयोग मिलेगा ! परन्तु स्वाभाव में तेज़ी एवं मानसिक तनाव रहे!

कर्क - शनि की ढैया के कारण शरीर कष्ट , मानसिक तनाव व स्वास्थ्य हानी के योग है ! लाभ कम खर्च अधिक होगा ! विभिन्न उलझनों का सामना रहेगा ! ता . 16 से सूर्य संचार इस राशि पर होने से निकट बन्धुओ से मनमुटाव एवं विरोध बढ़ेगे ! भगवान सूर्य का पूजन करना शुभ होगा !

सिंह - इस मास में धर्म कर्म में रूचि बढ़ेगी ! राज दरबार में जाने से मान - सम्मान बढेगा ! व्यवसाय / नौकरी में उन्नति के साधन बढ़ेगे ! घर में सुख - शांति में मित्रो द्वारा विघ्न पड़ेगा ! थोड़ी सी उत्तेजना से काम बिगड़ सकता है ! मासांत में किसी बिगड़े काम में प्रतिष्ठित व्यक्ति के सहयोग से सुधार होगा !

कन्या - राशिस्वामी बुध राशिगत होने से दैनिक कार्यो में प्रगति होगी ! कुछ बिगड़े कामो में सुधार होगा ! धन लाभ व उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! पारिवारिक सुख में वृद्धि होगी ! किसी शुभ कार्य पर खर्च होगा !परन्तु शनि साढ़ेसाती के कारण तनाव रहेगा !भलाई करने पर भी बुराई मिलेगी , आर्थिक परेशानियों के कारण चिंताए होगी !

तुला - शनि साढ़ेसति एवं शनि - राहू का संचार इस पर होने से अत्यधिक परिश्रम के बाद धनु लाभ और सुख साधनों में वृद्धि होगी ! व्यर्थ की भाग -दौड़ और धार्मिक कार्यो पर खर्च होगा ! वाद - विवाद से बचे ! परन्तु ता .24 के पशचात विदेश सम्बन्धी कार्यो में अनेक उतार - चढ़ाव का सामना रहे !

वृश्चिक - ता .4 जुला . से राशिस्वामी मंगल अष्टमस्थ संचार करने से स्वास्थ्य सम्बन्धी विशेष सावधानी बरते ! बनते कामो में विघ्न - बाधाएँ एवं अडचने रहेगी ! और उत्तेजना भी बढ़ेगी ! शनि साढ़ेसति के कारण व्यवसायिक क्षेत्रो में संधर्षमयी परिस्थितियों रहेगी ! आय से खर्च एवं वृथा मानसिक तनाव रहेगा !

धनु - इस राशि पर मंगल की दृष्टि पड़ रही है ! निर्वाह योग्य धन लाभ के अवसर प्राप्त होते रहेगे ! परन्तु मनोरंजन एवं विलास आदि कार्यो पर खर्च अधिक रहेगे ! सांसरिक कार्यो में प्रगति होगी ! गृह में ख़ुशी का वातावरण बनेगा ! उच्च प्रतिष्ठत लोगो के साथ संपर्क बनेगे ! परन्तु ता .26 से वृथा मानसिक तनाव एवं पारिवारिक परेशानी रहे !

मकर - पूर्वार्द्ध भाग में धन एवं विद्या में उन्नति होगी ! विलास अदि कार्यो पर धन का व्यय होगा ! स्त्री एवं संतान की ओर से प्रसन्नता प्राप्त हो ! ता .20 के पश्चात व्यवसाय में बहुत कठिनाई से निर्वाह योग्य धन की प्राप्ति होगी ! वृथा यात्राए एवं धन का खर्च अधिक होगा !

कुभ
- इस मास में आर्थिक हालात आगे से बेहतर होंगे ! कर्येक्षेत्र में व्यस्तताएँ बनी रहेगी ! समाज से मान - इज्जत बढ़ेगी ! विदेश से सम्बंधित कार्यो में कुछ सफलता प्राप्त होने की संभावनाएँ है ! मासांत में शुभ समाचार और अप्रत्याशित लाभ भी होंगे !

मीन - शनि की ढ़ैया होने से व्यवसाय में अनिशिच्तता बनी रहेगी ! आय कम और व्यय अधिक रहेगा ! ता . 10 के पशचात परिश्रम करने पर भी धन प्राप्ति आशा अनुरूप नही होगी ! परिवार में तनाव व वैचारिक मतभेद होंगे ! उत्तरार्ध भाग में भूमि - सम्बन्धी क्रय - विक्रय की योजनाए बनेगी ! परन्तु इस कार्य में कुछ समस्या भी उत्त्पन्न हो सकती है !


भविष्यफल - अगस्त -सन 2013 ई .


मेष - इस मास मिश्रित प्रभाव होंगे ! मासारंभ में व्यवसाय की स्थिति माध्यम रहेगी ! स्त्री व परिवार से सुखद समाचार मिलेगा ! विदेश सम्बन्धी कार्य किसी विशिष्ट व्यक्ति के सहयोग से बन जाएगे ! पुरुषार्थ करने पर लाभ होगा ! परन्तु 18 अग .से मंगल नीचराशिगत होने से घरेलू सुख में कमी एवं आवास संबंधी उलझने बढ़ेगी !

वृष - कुछ सोची हुई योजनाओ में आंशिक सफलता मिलेगी परन्तु धन का खर्च विलास -मनोरंजन आदि कार्य पर अधिक होगा ! परन्तु ता .11 से शुक्र नीचराशिगत होने से संतान , परिवारिक उलझने एवं सेहत संबंधी परेशानी बढ़ेगी ! आय कम और खर्च अधिक रहेगे !

मिथुन - इस मास में मिश्रित फल होगा ! घनामगन के साधनों में वृद्धि होगी ! ता . 4 से बुध कर्क राशिगत संचार करने से शरीर कष्ट , मानसिक तनाव व चमड़ी सम्बन्धी रोग होने की सम्भावना बनी रहेगी ! ता . 11 से शुक्र भी कन्या राशि में संचार करने से विघ्नों के वाबजूद निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! मासांत में आय कम और खर्च अधिक रहेगे !

कर्क - कार्य व्यवसाय में स्थिति कुछ अनुकूल होगी ! भाई -बन्धुओ का सहयोग प्राप्त होगा ! किसी शुभ कार्य पर खर्च होगा ! उत्तरार्द्ध में अडचनों के कारण परेशानिया बढ़ेगी ! ता .18 से मंगल इस राशि पर नीचावस्था में संचार करने से तनाव एवं घरेलू उलझने बढ़ेगी ! क्रोध भी ज्यादा आएगा !

सिंह - इस मास मिला -जुला फल प्राप्त होगा ! व्यवसाय में उन्नति व लाभ के अवसर प्राप्त होंगे ! विलास अदि पदार्थो पर धन का व्यय अधिक होंगे ! ता .16 से सूर्य का संचार इस राशि पर होने से व्यवसाय में उन्नति एवं विघ्नों के बावजूद बिगड़े कार्यो में सुधार होगा ! मान - प्रतिष्ठा में वृद्धि परन्तु क्रोध से बचे !

कन्या - इस मास मिश्रित प्रभाव होगा ! आय के साधन बनते रहेगे ! परन्तु शनि की साढ़ेसति के कारण शुभ कार्यो में अडचने रहेगी ! उत्त्साह की भी कमी रहेगी ! ता .18 के पशचात घरेलू उलझनों के करण मन अशांत एवं असंतुष्ट रहेगा ! धन का अपव्यय भी होगा !

तुला - मासारंभ में कुछ बिगड़े कार्य बनेगे ! धन लाभ के अवसर मिलेगे ! मान - सम्मान में वृद्धि होगी ! परन्तु ता .11 से राशिस्वामी शुक्र नीच राशिगत संचार करने से आय कम व खर्च अधिक रहेगे ! स्वास्थ्य भी ठीक न रहे ! शनि साढ़ेसति के कारण मन अशांत एवं असुन्तुष्ट रहेगा !

वृशचिक - ता .18 तक मंगल अष्टम भाव में संचार करने से स्वास्थ्य सम्बन्धी विशेष सावधानी बरते ! बनते कामो में विघ्न -बाधाए और उत्तेजना भी बढ़ेगी ! ता .18 से मंगल नीचराशिगत कर्क के संचार करने से मानसिक तनाव , वृथा खर्च ,घरेलु उलझने एवं व्यवसायिक परेशानियों का सामना रहेगा !

धनु - ता .19 तक मंगल की दृष्टि रहने से उत्साह में वृद्धि एवं भाग्यवश कोई बिगड़ा काम बनेगा ! परन्तु क्रोध अधिक एवं खर्च अधिक होगा ! ता .19 से मंगल अष्टम स्थान में होने से स्वास्थ्य ढीला , घरेलू चिंता एवं सांझेदारी के कार्यो में हानि होगी ! वाहन आदि सावधानी से चलाना चाहिये !

मकर - इस मास मंगल की दृष्टि एवं सूर्य की सप्तम दृष्टि ता .16 तक रहने से मिश्रित प्रभाव होगा ! पूर्वार्द्ध में मानसिक तनाव एवं घरेलू उलझने बढेगी ! अत्यधिक संघर्ष के बाद धन लाभ अल्प रहेगा ! ता .17 से रुके कार्यो में सुधार ,आय कम -खर्च अधिक होगा ! ता .20 से मानप्रतिष्ठा में वृद्धि एवं विदेशी सभ्यता की ओर रुझान रहेगा !

कुम्भ - गुरु की शुभ दृष्टि होने से कुछ सोची योजनाओ की सफलता प्राप्त होगी ! कुछ रुके हुए कार्यो में सिद्धि प्राप्त होगी ! घर में कोई मंगल कार्य होगा ! व किसी श्रेष्ट व्यक्ति से सम्बन्ध बनेगा ! आय के साधनों में वृद्धि होगी ! परन्तु उत्तरार्ध भाग में पारिवारिक परेशानिया रहे !

मीन - राशिस्वामी गुरु चतुर्थ भाव में होने के कारण शुभ कार्यो पर व्यय होगा ! कुछ बिगड़े काम बनेगे ! नवीन मित्रो के साथ मेल -जोल बढेगा ! वाहन आदि सुख -सुविधाओ पर खर्च अधिक होंगे ! शिव चालीसा का पाठ करना शुभ होगा ! उत्तरार्ध भाग में मानसिक तनाव एवं गुप्त चिंताए रहेगी !


भविष्यफल - सितम्बर -सन 2013 ई .

मेष - मंगल नीचराशिगत संचार करने से घरेलू सुखो में कमी होगी ! संघर्षपूर्ण परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा ! व्यर्थ की भागदौड़ और फिजूलखर्ची होगी ! विलास आदि कार्यो पर व्यय होगा ! कार्यो में बाधाएँ उत्पन्न होगी ! उत्तरार्ध भाग में चोट आदि का भय भी रहेगा ! सावधानी बरते !

वृष - ता .6 तक राशिस्वामी शुक्र नीच ( कन्या ) राशिस्थ होने से संतान एवं परिवार सम्बन्धी चिंता रहे ! घरेलू उलझने बढ़ेगी ! ता .7 से शुक्र -शनि -राहू का योग रहने से विघ्नों के पशचात कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी ! परन्तु वृथा मानसिक तनाव , पारिवारिक परेशानी एवं चोट आदि का भय रहे !

मिथुन - ता .5 से 24 के मध्य राशिस्वामी बुध राशिगत होने से अचानक धन लाभ के योग है ! उच्च प्रतिष्ठत लोगो से मेल -जोल रहेगा ! दैनिक कार्यो में प्रगति होगी ! धर्म -कर्म में विशेष रूचि होगी ! समाज में मान - प्रतिष्ठा में वृद्धि हो , परिवार में शुभ कार्यो का व्यय होगा ! मासांत में व्यवसाय में कुछ परिवर्तन का विचार बने ! आकस्मिक खर्चो में विशेष वृद्धि होगी !

कर्क - इस मास परिश्रम व दौड़ -धूप अधिक रहेगी ! फिर भी निर्वाह योग्य धन की प्राप्ति होगी ! कारोबार में कई तरह के उतार -चढ़ाव व अन्य परेशानिया रहेगी ! आकस्मिक खर्च होने के होने के योग्य है ! मासांत में आर्थिक क्षेत्र में उन्नति के योग है ! किसी उच्च अधिकारी के साथ संपर्क रहेगे!

सिंह - मासारंभ में सिंह राशि में सूर्य का संचार होने के कारण मिश्रित प्रभाव रहेगे नौकरी व व्यापर में यधपि उन्नति व लाभ के अवसर प्राप्त होंगे ! परन्तु पारिवारिक एवं निजी उलझनों के कारण लाभ में कमी रहेगी ! ता .17 के पश्चात कुछ बनते कामो में विघ्न उत्पन्न होंगे ! वृथा मानसिक तनाव रहेगा !

कन्या - ता .5 से 25 सितं के मध्य राशिस्वामी में बुध राशिगत होने से शुभ फल मिलेगे ! किसी नये कार्य की योजना बनेगी ! आय के साधनों का विस्तार होगा ! विदेश यात्रा की योजना बनेगी ! परन्तु शनि के कारण संघर्ष बना रहेगा ! व्यर्थ की भागदौड़ और पारिवारिक सम्पत्ति के लिए मतभेद उभरेगे !

तुला
- शनि साढ़ेसति के प्रभाव से बनते कार्यो में विघ्न उत्पन्न होंगे ! आशाओं के अनुरूप सफलता प्राप्त नही होगी ! मन उदासीन रहेगा ! ता .20 -22 को कुछ विवादस्पद मामलो में मानसिक तनाव का कारण बनेगे ! मंगल की चतुर्थ दृष्टि होने से गुस्सा ज्यादा एवं किसी निकट सम्बन्धी से तकरार होगी ! धन का खर्च अधिक होगा ! श्री सूक्त का पाठ करना शुभ होगा !

वृश्चिक- मंगल नीच राशिगत संचार करने तथा शनि -साढ़ेसति के प्रभाव के कारण बनते कामो में विघ्न और विलम्ब होगा ! नौकरी में किसी से धोखा मिल सकता है ! सावधानी बरते ! खर्च भी अधिकता से मन परेशान और अशांत रहेगा ! शरीर कष्ट और चोट आदि का भय रहेगा ! श्री दुर्गा कवच का पाठ करना शुभ रहेगा !
धनु - संघर्ष के बावजूद धन लाभ के साधन बनते रहेगे ! भूमि , जायजाद एवं वाहन आदि पर खर्च अधिक होगा ! स्त्री -सुख एवं परिवार में ख़ुशी का वातावरण बनेगा ! मासांत में बनते कामो में अडचने पैदा होंगी ! क्रोध अधिक एवं पारिवारिक परेशानी रहे !

मकर - इस राशि पर मंगल की दृष्टि पड़ने से मान - प्रतिष्ठा एवं आय के साधनों में वृद्धि होगी ! विदेश सम्बन्धी कार्यो में प्रगति होगी !परन्तु ता . 18 से वृथा भाग दौड़ एवं धन का खर्च होगा ! भाग्यवश कुछ बनते कामो में विघ्नों का सामना रहेगा !

कुम्भ - ता . 16 सतं तक क्रोध अधिक , बनते कामो में विघ्न , आय से खर्च अधिक होगा ! घरेलू उलझनों के कारण तथा आर्थिक परेशानियों से मन चिंतित रहेगा ! परन्तु राशिस्वामी शनि भाग्यस्थान पर होने से निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे !

मीन - शनि की ढ़ैया के प्रभाव से व्यवसाय में अनिशिचतता बनी रहेगी ! आय कम और व्यव अधिक होगा ! उत्तरार्ध भाग में किसी निकट सम्बन्धी से तकरार होगी ! मानसिक तनाव एवं गुप्त चिंता रहेगी ! परन्तु परिवार में बुजुर्गो के सहयोग से किसी विशेष कार्य में सुधार होगा !

भविष्यफल -अक्टूबर -सन 2013 ई .

मेष - मासारंभ में किसी नवीन कार्य की योजना बनेगी ! परन्तु वृथा मानसिक तनाव एवं परेशनियाँ रहेगी ! घरेलू एवं व्यवसायिक क्षेत्र में विघ्न बाधाओ व अडचनों के बावजूद गुजारे योग्य आय के साधन बनेगे ! खर्च अधिक रहेगे ! इस राशि की स्त्रियों को अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखने की आवश्कता होगी !

वृष - पूर्वार्द्ध भाग में अत्यंत परिश्रम के बाद भी गुजारे योग्य धन प्राप्ति के साधन बनेगे ! स्वास्थ्य में विकार तथा कारोबारी उलझनों के कारण बढ़ेगी ! किसी निकटस्थ सहयोगी द्वारा धोखा मिलने के संकेत है ! उत्तरार्द्ध भाग में किसी अकस्मात धन लाभ के अवसर बनेगे !

मिथुन - इस मास मिश्रित प्रभाव होगा ! गत किए गये प्रयासो से किसी विशेष कार्य में सफलता मिले ! विदेश सम्बन्धी कार्यो में विघ्नों का सामना रहेगा ! ता .17 के पश्चात किसी नये कार्य में विनियोग का लाभ होने के योग है ! स्वास्थ्य कुछ ढीला रहेगा !

कर्क -कार्य व्यवसाय में उन्नति व प्रगति के कुछ मार्ग प्रशस्त होंगे ! गृह में कोई मंगल कार्य होगा ! कुछ बिगड़े कार्यो में विशिष्ट व्यक्तियों में संपर्क करने से सुधार होगा ! परिवार में भाई - बन्धु का सहयोग कम प्राप्त होगा ! मित्र वर्ग हानि पहुँचाने की चेष्टा करेगा ! किसी पर भी भरोसा करना हानिकारक होगा !

सिंह - मासारंभ में उत्साह में वृद्धि परन्तु व्यर्थ की भाग दौड़ रहेगा ! ता . 17 से राशिस्वामी सूर्य नीच राशि (तुला )में है ! जिसके फलस्वरूप व्यवसाय में अत्यधिक संघर्ष के बाद निर्वाह योग्य आय के साधन बनेगे ! ता . 26 के बाद भूमि , मकान एवं वाहन संबंधी परेशानिया पैदा हो ! परिवार में व्यर्थ का तनाव और खर्च की अधिकता रहेगी !

कन्या - व्यवसाय में संघर्षपूर्ण परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा ! अत्यधिक भाग दौड़ करने पर भी आय से खर्च अधिक होगा ! शनि साढ़ेसति के कारण मन अशांत , असंतुष्ट , स्वास्थ्य ढीला एवं कैरियर सम्बन्धी चिंता रहेगा !

तुला - शनि -रहु का संचार होने से बनते कामो में विघ्न ओए आशानुकूल लाभ में कमी रहे ! परिवार एवं निजी उलझनों के कारण मन अशांत रहे ! ता .17 से स्वास्थ्य ढीला , आँखों में कष्ट की सम्भावना बनी रहेगी !

वृश्चिक - किसी नवीन कार्य क्षेत्रो में रुझान बढेगा ! परन्तु ता .5 अक्तू .से मंगल की स्वग्रही दृष्टि रहने से व्यवसायिक क्षेत्रो में विघ्नों के बावजूद निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! भाई - बन्धु से मन मुटाव और धन का अपव्यय होगा ! वृथा भागदौड़ तथा मन अशांत रहे !

धनु - क्रोध अधिक एवं गुप्त चिंता रहेगी ! परन्तु गुरु की स्वग्रही दृष्टी होने से कुछ रुके हुए कार्य बनेगे !धर्म -कर्म में रुझान रहेगा ! परन्तु ता .17 से वृथा भाग दौड़ ,परिवारिक परेशानी एवं आय के साधनों में कुछ कमी रहेगी ! स्वास्थ्य सम्बन्धी सावधानी बरते !

मकर - मासारंभ में कुछ बिगड़े कार्य बनेगे ! धन लाभ के अवसर प्राप्त होंगे ! पदोन्नति व मान - सम्मान में वृद्धि होगी ! मासांत में दोड धूप तथा फिजूलखर्ची बढ़ेगी ! राशिस्वामी शनि -राहू युक्त होने से मानसिक तनाव एवं परिवार में विभिन्न परेशानियों का सामना रहेगा !

कुम्भ - व्यवसाय व कारोबार में अनिश्चतता बनी रहेगी ! आय से व्यय अधिक होगा ! स्वास्थ्य में विकार उत्पन्न हो ! प्रयास करने पर धन लाभ के अवसर पहले से बेहतर होंगे ! ता .17 से सूर्य -शनि -राहू का योग भाग्य स्थान पर होने से व्यवसाय में अनेक उतार - चढ़ाव एवं उथल -पुथल के असार बनते है !

मीन - पूर्वार्द्ध भाग में व्यवसाय की स्थिति मध्यम रहे ! मित्रो की सहयता से किसी कठिन कार्य में सिद्धि होगी ! निर्वाह योग्य धन प्राप्ति के साधन बनते रहेगे ! परन्तु मासांत में परिवार में धर्म -कर्म के कार्यो पर धन का खर्च अधिक होगा !ख़ुशी के अवसर भी मिलेगे !

भविष्यफल -नवम्बर -सन 2013 ई .

मेष - मासारंभ में इस राशि पर सूर्य की दृष्टि पड़ रही है ! भाग दौड़ अधिक रहे ! चिंताओ में वृद्धि तथा फिजूल खर्ची बढ़ेगी ! दौड़ धूप अधिक रहेगी ! किसी निकट -बन्धु से मन मुटाव पैदा हो ! ता .26 से मंगल की स्वग्रही दृष्टि होने से कुछ बिगड़े कामो में सुधार होगा ! धन लाभ व उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे !

वृष - पूर्वार्द्ध भाग में कारोबार में व्यस्तताए बढ़ेगी ! अत्यन्त कठिनाई से निर्वाह योग्य धन प्राप्ति होगी ! परन्तु खर्चो की अधिकता में मन परेशानी रहेगा ! शरीर कुछ अस्वस्थ रहे ! उत्तरार्ध में स्थान परिवर्तन होने के योग है ! सिर दर्द एवं आँखों में कष्ट की सम्भावना बनेगी !

मिथुन -
इस मास विघ्न - बाधाओ के बावजूद प्रयोजन सिद्धि हो जाएगी ! लाभ के मार्ग प्रशस्त होंगे ! कुछ अप्रत्याशित सफलताए प्राप्त होगी ! शत्रु प्रबल होंगे ! ता .28 से अकस्मात धन - लाभ , बन्धु -मिलाप , स्त्री - सुख आदि शुभ समाचार मिलेगे ! स्वास्थ्य में सुधार होगा ! नवीन कार्य की योजना बनेगी ! श्री दुर्गा सप्तशति का पाठ करना शुभ रहेगा !

कर्क - इस मास में रूकावटो के बावजूद पराक्रम में वृद्धि एवं आय के साधन बढ़ेगे ! व्यवसायिक व्यवस्तताए बढ़ेगी ! माता -पिता का सहयोग विशेष लाभकारी होगा ! धार्मिक कार्य करने की इच्छा जागृत होगी ! ता .22 विदेशी मित्रो से धन लाभ होगा ! परन्तु गुप्त शत्रुओ से सतर्क रहे ! श्री दुर्गा कवच का नित्य पाठ करना कल्याणकारी होगा !

सिंह - मासारंभ में अत्यधिक संघर्ष के बावजूद धन लाभ रहे ! अधिकांश समय व्यर्थ के कामो में व्यतीत होगा !अदर में विकार एवं आँखों में कष्ट का भय है ! उत्तरार्द्ध भाग में किसी नये मित्र के साथ संपर्क पैदा होगे ! विद्या अथवा पूर्व किये गये प्रयासों में सफलता प्राप्त होगी !

कन्या - मासारंभ में निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! परन्तु शनि साढ़ेसति के कारण परिस्थितिया संघर्षपूर्ण रहेगी ! आराम कम व दौड़ धूप अधिक रहेगी ! भूमि व वाहन आदि पर खर्च होगा ! ता .15 से 17 को वाहन आदि चलाते समय सावधानी बरते ! चोट आदि का भय होगा ! स्वास्थ्य में विकार एवं बनते कार्यो में विघ्न तथा खर्च अधिक रहेगा !

तुला - मासारंभ में सूर्य -शनि -राहू का संचार इस राशि पर होने से बनते कामो में विघ्न और विलम्ब होगा ! नौकरी में किसी से धोखा मिल सकता है ! सावधानी बरते ! खर्च की अधिकता से मन परेशान और अशांत रहेगा ! शरीर कष्ट और चोट आदि का भय रहेगा ! आदित्य ह्रदय स्रोत्र का पाठ करना शुभ होगा !

वृश्चिक - शनि साढ़ेसति एवं ता . 26 नवं तक मंगल की स्वगृही दृष्टि रहने से इस मास के पूर्वार्द्ध भाग में व्यवसाय की स्थिति मध्यम रहे ! सवारी का सुख मिले ! उत्तरार्द्ध भाग में घरेलू उलझनों के कारण मन परेशान रहे ! बनते कार्यो में विघ्न उत्त्पन्न हो ! निर्वाह योग्य धन की प्राप्ति हो ! खर्च की अधिकता रहे ! श्री हनुमान कवच का पाठ करना शुभ होगा !

धनु - मासारंभ में गुरु की स्वग्रही दृष्टी होने से मिश्रित प्रभाव रहेगा ! धर्म - कर्म में रुझान रहेगा ! परन्तु ता . 7 से राशिस्वामी गुरु वक्री अवस्था में संचार करने से आर्थिक दृष्टि से विशेष शुभ नही होगा ! आय से खर्च अधिक एवं वृथा भाग दोड रहे ! बुजुर्गो से मतभेद रहेगे !

मकर - कर्येक्षेत्र में व्यवस्तताए बनी रहेगी ! कोई रुका हुआ कार्य बनने के योग है ! विदेश संबंधी कार्यो में विघ्न उत्पन्न होंगे ! ता . 20 - 21 को नये -नये संपर्क एवं गठजोड़ एवं भाग्य वृद्धि में सहायक होंगे ! परन्तु शनि- राहू के कारण मानसिक तनाव व खर्चो की अधिकता रहेगी !

कुम्भ - ता . 16 नवं तक भाग्यस्थान पर सूर्य -शनि - राहू का योग होने से इस समयवधि में विशेष उथल - पुथल एवं उतार - चढ़ाव का सामना रहेगा ! परिवार में मतभेद उभरेगे ! परन्तु ता . 17 से उच्च प्रतिष्ठत लोगो से संपर्क , धर्म - कर्म में रुझान एवं धन का खर्च अधिक रहेगा ! श्री आदित्य ह्रदय स्रोत का पाठ करना शुभ होगा !

मीन - शनि की ढ़ैया के प्रभाव से बनते कार्यो में विघ्न उत्पन्न होंगे ! आशाओं के अनुरूप सफलता प्राप्त नही होगी ! मन उदासीन रहेगा ! ता .26 -27 को कुछ विवादस्पद मामले मानसिक तनाव का कारण बनते ! किसी निकट सम्बन्धी से तकरार होगी ! धन खर्च अधिक , श्री सूक्त का पाठ करना शुभ रहेगा !


भविष्यफल -दिसम्बर -सन 2013 ई .

मेष - राशिस्वामी मंगल की स्वग्रही दृष्टि रहने से किसी नए कार्य की योजना बनेगी ! व्यवसाय में उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! परन्तु ता .17 से दाम्पत्य जीवन में मतभेद होंगे ! परेशानी और उलझने उत्पन्न होगी ! विलास आदि कार्यो पर खर्च अधिक होगा !

वृष - दैनिक कार्यो में प्रगति होगी ! धर्म -कर्म में विशेष रूचि होगी ! समाज में मान - प्रतिष्ठा में वृद्धि हो ,परिवार में शुभ कार्यो पर व्यय होगा ! मासांत में व्यवसाय में कुछ परिवर्तन का विचार बने ! परन्तु स्वास्थ्य सम्बन्धी विशेष सावधानी बरते ! आकस्मिक खर्चो में विशेष वृद्धि होगी !

मिथुन - मासारंभ से ता .20 तक बुध वृशिचक राशिगत संचार करने से आय में कमी , धन का खर्च अकस्मात बढेगा ! परिवार का सहयोग मिलेगा ! परन्तु ता . 20 से बुध धनुराशिगत होने से कठिन व विपरीत परिस्थितियों के बावजूद निर्वाह योग्य आय के साधन बनते रहेगे ! स्वास्थ्य कुछ ढीला रहे !

कर्क - शनि की ढ़ैया एवं चतुर्स्थ शनि -राहू के प्रभाव से इस मास में परिश्रम व दौड़ -धूप अधिक रहेगी ! फिर भी निर्वाह योग्य धन की प्राप्ति होगी ! कारोबार में कई तरह के उतार - चढ़ाव व अन्य परेशानिया रहेगी ! आकस्मिक खर्च होने के योग है ! मासांत में आर्थिक क्षेत्र में लाभ के योग है ! किसी उच्च अधिकारी के साथ संपर्क रहेगे !

सिंह - इस मास मिश्रित फल होंगे ! व्यवसाय में आंशिक लाभ एवं विलास आदि कार्यो पर धन का व्यय होगा ! क्रोध एवं उत्तेजना से कोई बना हुआ कार्य बिगड़ने के योग है ! आर्धिक उलझनों के कारण तनाव व चिंताए रहेगी ! ता . 26 के बाद स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानी रहेगी !

कन्या - शनि साढ़ेसति के प्रभाव से कारोबार में व्यवस्तताए बढ़ेगी ! अत्यंत कठिनाई से निर्वाह योग्य धन प्राप्ति होगी ! खर्चो की अधिकता से मन परेशान रहेगा ! गृहस्थ जीवन में तनाव की स्थिति रहे ! शरीर अस्वस्थ रहे ! ता .20 के बाद दौड़ - धूप एवं घरेलू उलझने बढ़ेगी ! आय के साधनों में विघ्न - बाधाए रहेगी !

तुला - शनि -राहू का संचार एवं शनि साढ़े सति होने से संघर्षपूर्ण परिस्थितियों का सामना करना पड़े ! आय कम और खर्च अधिक हो ! व्यवसाय में विघ्न तथा घरेलू उलझनों के कारण मन अशांत रहे ! शरीर कष्ट हो ! व्यर्थ की भाग दौड़ अधिक रहे ! अत्यंत संघर्ष के बावजूद निर्वाह योग्य धन प्राप्ति के साधन बन पाएगे! श्री लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ करना शुभ रहेगा !

वृश्चिक -
शनि साढ़ेसति होने से वृथा मानसिक तनाव एवं बनते कामो में विघ्नों का सामना रहेगा ! परन्तु राशिस्वामी मंगल लाभ के स्थान पर होने से व्यवसायिक क्षेत्रो में लाभ के अवसर मिलेगे ! किन्तु परिवार में कुछ निजी समस्याओ का सामना रहेगा !

धनु - राशिस्वामी गुरु वक्री अवस्था में होने से धन लाभ में कुछ कमी रहेगी ! परन्तु ता . 15 से हालात में कुछ परिवर्तन एवं किसी विशेष व्यक्ति से संपर्क साधनों से बिगड़े कामो में सुधार होगा ! मासांत में परिवार में विभिन्न परेशानियों का सामना होगा !

मकर - मास के पूर्वार्द्ध भाग में धन एवं सुख की प्राप्ति होगी ! वृथा खर्च भी बढ़ेगे ! आमोद - परमोद आदि साधनों में विस्तार एवं वृद्धि होगी ! धर्म -कर्म में भी रुझान रहेगा ! उत्तरार्द्ध में पारिवारिक उलझनों के कारण मन संतप्त रहे ! आकस्मिक खर्चो में वृद्धि के कारण तनाव रहे ! शनिवार का व्रत रखना शुभ होगा !

कुंभ - आशाओं में किंचित सफलता प्राप्त होगी ! शनि - राहू की स्थिति भाग्य स्थान पर होने से धन लाभ व उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे ! नवीन कार्यो को कार्य रूप देने का पर्यास लाभकारी रहेगा ! मासांत में कोई बिगड़ा कार्य बनेगा ! परन्तु धन का खर्च अधिक रहेगा ! श्री सूक्त का पाठ करना शुभ होगा !

मीन - मासारंभ में गुरु वक्री होने से धन का खर्च अधिक , उलझनों के बावजूद निर्वाह योग्य आय एवं विदेशी कार्यो में कुछ प्रगति होगी ! परन्तु ता . 18 से परिस्थितियों में धीरे - धीरे सुधार होगा ! उत्साह से किये गये कार्यो में सफलता के आसार बढ़ेगे ! किन्तु स्वास्थ्य परेशानी रहेगी !